न्यूज़

जानिये छोटी दिवाली पर क्यों हैं यम दिया जलाने का महत्व

Narak Chaturdashi 2021 Yama Deepdan Vidhi Choti Diwali Puja Shubh Muhurat And Date Significance

हर साल कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि छोटी दिवाली मनाई जाती है| जिसे रूप चौदस, यम चौदस, काली चौदस या नरक चौदस (Narak Chaturdashi 2021 ) के नाम से भी जाना जाता है| अन्य दिनों के जैसे आज का भी काफी महत्त्व होता है| हर बार तो यह त्यौहार दिवाली के एक दिन पहले ही होता है| लेकिन इस बार पंचांग भेद के कारण कई जगह नरक चतुर्दशी का त्योहार आज 03 नवंबर तो कई जगह 04 नवंबर को मनाया जाएगा| इस दिन यम के नाम का दिया जलाने का प्रावधान है|

नहीं रहेगा अकाल मृत्यु का भय

ऐसा माना जाता है कि नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi 2021 ) के दिन यमदेव के निमित्त विधि-विधान के साथ दीपदान करने से अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है|आज हम आपको बताएँगे इस दिन दीपक जलाने की सही विधि क्या है| आज के इस दिन के लिए एक कथा प्रचलित है| जिसके अनुसार, यम ने एक बार अपने दूतों को अकाल मृत्यु से बचने के लिए बताया था कि जो भी कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को दीपदान करेगा उसे कभी भी अकाल मृत्यु का भय नहीं रहेगा| इसीलिए यम चौदस के दिन दीपदान करना चाहिए|

दीपदान (Narak Chaturdashi 2021 ) के शुभ मुहूर्त (Choti Diwali Puja Shubh Muhurat ) –

03 नवंबर 2021 बुधवार को 09 बजकर 2 मिनट से

04 नवंबर 2021, गुरुवार को सुबह 06 बजकर 03 मिनट तक|

दीपदान की विधि (Yama Deepdan Vidhi ) –

  • दक्षिण दिशा को यम की दिशा माना गया है| इसीलिए इस दिन दक्षिण दिशा में दिया प्रज्वलित करना चाहिए|
  • घर के किसी बड़े-बुजुर्ग द्वारा दीपक प्रज्वलित किया जाए तो अच्छा होता है|
  • दीया पुराना हो तो ज्यादा अच्छा है और साथ ही इसे सरसों के तेल से प्रज्वलित करना चाहिए|
  • दिए को गेंहू साफ़ करने वाले सूप में या फिर किसी थाली में दीपक रखें|
  • दिए को घर के बाहर, चौराहे पर या किसी अकेले स्थान पर रखें|